समाजसेवी रीनू कश्यप ने किया लोकसभा चुनाव लडऩे का ऐलान

हरिद्वार – समाजसेवी रीनू कश्यप ने लोकसभा चुनाव में भावी प्रत्याशी के रूप में ताल ठोकते हुए कहा कि सरकारें जनहित के मुद्दे पर फेल हो चुकी हैं। जनसमस्याओं का कोई निराकरण नहीं हो पाता है। जनप्रतिनिधि समाज की समस्याओं से मुखर हो रहे हैं। राजनैतिक दल दलगत राजनीति करने में लगे हुए हैं। अपने ही परिवारों के हितों में कार्य कर रहे हैं। हरिद्वार का समुचित विकास नहीं हो पा रहा है। पिछले एक दशक से जनपद में बाहरी प्रत्याशी जीतने के कारण जनसमस्याओं का अंबार लगा हुआ है। जनता अपने छोटे छोटे कामों को लेकर मनोनीत प्रतिनिधियों का सहारा लेती है। प्रतिनिधि पार्टी के एजेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं। रीनू कश्यप ने कहा कि स्थानीय प्रत्याशी हो तो वह क्षेत्र के मतदाताओं के प्रति ज्यादा जवाबदेह होगा। साथ ही शिकायतों पर तुरंत संज्ञान भी लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी की समस्या जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में बनी हुई है। क्षेत्र का विकास रूक चुका है। रूडक़ी को जिला ना बना पाना सरकारी की लचर प्रणाली को दर्शाता है। महिलाओं को राजनीति में भागीदारी नहीं मिल पा रही है। महिलाओं की समस्याओं के हल नहीं हो पाते हैं। महिलाओं में शिक्षा का अभाव है। महिलाएं असुरक्षित हैं। रीनू कश्यप ने महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ प्रत्येक वर्ग को नहीं मिल पाता है। महिला सशक्तिकरण जैसे दावे करने वाली सरकारें महिलाओं के उत्थान में रूचि नहीं दिखा पा रही हैं। उन्होंने जहरीली शराब से हुई मौतों की घटना पर कड़ें शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि शासन प्रशासन की उदासीनता का सबसे बड़ा कारण उत्तराखण्ड एवं यूपी में देखने को मिला। शराब की भट्टीयां चल रही हैं। आबकारी विभाग इन घटनाओं को रोकने के लिए कोई सकारात्मक कदम नहीं उठा रहा है। समय रहते ग्रामीण क्षेत्रों में कच्ची शराब की खेप को नष्ट किया जाता तो इतनी बड़ी घटना से बचा जा सकता था। शराब की भट्टीयों को तुरंत बंद किया जाए। उन्होंने वर्तमान सरकार एवं क्षेत्र की जनता से अपील करते हुए कहा कि आवाज बनकर क्षेत्र की बेहतरी के लिए कार्य करें। लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी के रूप में उतरकर समाज सेवा से जुडेंगी। इस अवसर पर मोनिका, अरविन्द कुमार, नसीम अहमद, अलका रानी, सुनील, ब्रजेश रानी, राजेश्वर त्यागी आदि भी मौजूद रहे।

24

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *