राष्ट्रीय पर्व पर भी धरने में डटे रहे पर्यावरण मित्र

रुद्रपुर — गांधी जयंती पर जहां पूरा देश उनकी याद में स्वच्छ भारत अभियान चला रहा था वहीं दूसरी ओर नगर पालिका से हटाए गए पर्यावरण मित्र पांच माह का वेतन, नौकरी पर रखे जाने की मांग को लेकर धरने में बैठे थे। पर्यावरण मित्रों के धरने को आज 15 दिन का समय बीत चुका है। अभी तक पालिका प्रशासन सहित स्थानीय प्रशासन ने उनकी सुध नहीं ली है। नगर पालिका के सीमा विस्तार के बाद पालिका ने नगर स्वच्छता समिति के माध्यम से 166 कर्मचारी रखे थे। इन कर्मचारियों के अब तक केवल एक माह दस दिन का वेतन दिया गया है। इस बीच कुछ दिन यहां रहे ईओ विजय बिष्ट ने सभी कर्मचारियों से काम लेने से मना कर दिया था। ईओ का कहना था कि पर्यावरण मित्रों की नियुक्ति को लेकर सही प्रक्रिया नहीं अपनाई गई है। जिसके विरोध में नगर पालिका कर्मचारियों ने हड़ताल कर दी। पालिकाध्यक्षा के आश्वासन पर तीन दिन तक चली हड़ताल समाप्त कर दी गई। एक माह बाद पालिकाध्यक्ष ने 166 में से 81 पर्यावरण मित्रों को रखकर 85 को बाहर कर दिया। 17 सिंतबर से पालिका से बाहर किए गए पर्यावरण मित्र धरने पर बैठे हुए हैं। बुधवार को गांधी व लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के दिन भी पर्यावरण मित्रों ने पहले सुबह की पाली में काम किया और दस बजे के बाद धरना दिया। राष्ट्रीय पर्व के दिन भी धरने में बैठे पर्यावरण मित्रों की न तो किसी प्रशासनिक अधिकारी ने सुध ली और न ही किसी जनप्रतिनिधि ने। धरने में बैठने वालों में अमित कुमार वाल्मीकि, राजू वाल्मीकि, राजेंद्र कुमार, मुकेश कुमार, ऊषा रानी, मिथलेश, मुन्नी, बबली, ममता, लक्ष्मी, अनमोल, वासुदेव, रजत विक्की, चेतन, रामू भारती आदि थे।

22

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *