ऊर्जा ऑफिसर्स स्टाफ एसोसिएशन की केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक – की गई कई तरह की मांग – भृष्ट प्रबंधन को भी बर्खास्त करने की मांग

Hariom giri

रुड़की – ऊर्जा ऑफिसर्स,सुपरवाइजर्स एन्ड स्टाफ एसोसिएसन के द्वारा रामनगर विधुत उपकेंद्र में केंद्रीय कार्यकारणी की एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें विधुत निगम के भृष्ट प्रबंधन को बर्खास्त करने की मांग सहित कई मुद्दों पर चर्चा की गई इस बैठक में अन्य संगठनों से जुड़े करीब चालीस कर्मियों ने एसोसिएसन की सदस्यता भी ग्रहण की है 
बैठक में की गई प्रमुख मांगे इस प्रकार है
9-5-5 की पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू की जाए,
सातवे वेतन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार मकान किराया भत्ते की बड़ी दरो को तुरंत लागू किया जाए,
ऊर्जा के तीनों निगमो के क्रमिको को रियायती दरों पर दी जा रही विधुत सुविधा से किसी भी तरह की छेड़छाड़ नही की जाए,
विभागीय पदोन्न्ति के रिक्त पद व सहायक लेखाकार तथा अवर अभियंता के पदों पर जल्द ही विभागीय पदोन्न्ति कराई जाए,
ऊर्जा के तीनों निगमो में व्याप्त भर्ष्टाचार की एसआईटी जांच करने जिसमे जल विधुत निगम में व्याप्त भर्ष्टाचार व्याप्त भृष्ट अधिकारियो के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग सबसे प्रमुख रही है 

बैठक में एसोसिएसन के केन्द्रीय अध्यक्ष डी सी गुरुरानी ने कहा कि सरकार अपने विधायको,सांसदों और मंत्रियों को आये दिन नई नई तरह की सुविधाएं देती जा रही है जबकि सरकार को यह दिखाई नही दे रहा है कि ऊर्जा के तीनों निगमो में 20 हजार क्रमिको के सापेक्ष में 6 हजार कर्मी ही कार्यरत है इन्ही कर्मियों ने केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं को दिन रात मेहनत कर साफलता दिलाई है उन्होंने कहा कि क्रमिको की भर्ती पूरी तरह से बंद कर दी गई है अगर जल्द ही हमारी मांगे पूरी नही की जाती है तो हम कुमाऊं और गढ़वाल के मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन करंगे और उसके बाद हड़ताल पर चले जायेंगे 

29

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *