मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्रान्तर्गत ग्राम सभा लिस्ट्राबाद के ग्रामीणों ने गांव की मूलभूत सुविधाओं के अभाव में आगामी पंचायत चुनाव का बहिष्कार किया

विनीता खुराना

ऋषिकेश – मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्रान्तर्गत ग्राम सभा लिस्ट्राबाद के ग्रामीणों ने गांव की मूलभूत सुविधाओं के अभाव में आगामी पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने के साथ ही जब तक समस्याओं का निदान न हो जाये तब तक राजनेताओं को प्रचार के लिए गांव में न घुसने की चेतावनी दी है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की विधानसभा डोईवाला से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित विधानसभा के ही ग्राम सभा लिस्ट्राबाद के ग्रामीणों ने राज्य सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कहा कि बीते कई दशकों से ग्राम सभा क्षेत्र की मुख्य सड़क आज तक नही बन पायी है जबकि सरकार से लेकर आलाधिकारियों तक को ग्राम सभा की समस्याओं से अवगत कराया जा चुका है इसके बाद भी कोई भी समस्या का निदान नही हो पाया है।
ग्रामीण यशपाल सिंह मनवाल ने कहा कि ग्राम सभा लिस्ट्राबाद सन 1950 से भी पहले का बसा हुआ है तब से ही बिजली, पानी व सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं से ग्रामीण वंचित है जिसके लिए प्रत्येक चुनाव के दौरान राजनेतिक दलों के नेता बड़े-बड़े वादे कर वोट समेट कर चलते बनते है जिसके बाद कोई भी नेता ग्राम सभा की ओर दुबारा लौट कर नही आता है जिससे इस बार ग्रामीणों ने नेताओं की कार्यशैली से क्षुब्ध होकर पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने का ऐलान किया है साथ ही उन्होंने नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि चुनाव के लिये ग्राम सभा लिस्ट्राबाद में प्रवेश न करें अन्यथा उन्हें ग्रामीणों के गुस्से का शिकार होना पड़ सकता है।
वही ग्रामीण हुकुम सिंह ने भी कहा कि ग्राम सभा लिस्ट्राबाद में लगभग एक हजार की आबादी बसी हुई है और गांव 1950 से भी पहले का बसा हुआ है, ऐसे में आज भी ग्रामीण अपनी मूलभूत सुविधाओं के लिए शासन-प्रशासन सहित राज्य के कई मंत्रियों से निदान की मांग कर चुके है लेकिन अभी तक उनकी समस्याओं को निदान नही किया गया है जबकि हर बार के चुनाव में ग्रामीणों को आश्वासन ही मिलता आया है, जिसको देखते हुए इस बार पंचायत चुनाव का बहिष्कार किया जायेगा।
ग्रामीण महिला उमा मखलोगा ने कहा कि गांव की सड़कें दुरुस्त न होने के कारण स्कूली बच्चों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, बरसात के दौरान उक्त कच्चे मार्ग पर कीचड़ की वजह से चलना मुश्किल हो जाता है जबकि ग्रामीणों को हर बार नेताओं के आश्वासन के भरोसे बैठना पड़ता है ऐसे में ग्रामीण महिलाएं भी पंचायत चुनाव बहिष्कार का मन बना चुकी है।
ग्रामीण महिला सुशीला देवी ने कहा कि वह लगभग पच्चीस वर्ष पूर्व लिस्ट्राबाद में शादी होकर आयी थी तब से उसने गांव में सड़क कच्ची ही देखी है। वही गांव में अधिकांश समस्याएं आज भी व्याप्त है जिसको देखते हुए वह पंचायत चुनाव का बहिष्कार करेंगी।
चुनाव बहिष्कार करने वालों में अवतार सिंह, जयेंद्र कृषाली, भरत मनवाल, नरेश, प्रमोद, पंकज, राजेश मनवाल, जफर अली, हरफूल सिंह, रणजीत, नीरज, शांति देवी, दिला देवी, विनिता, सोमती, सुनीता, शांति, सोहन सिंह, हरीश, राजकुमार, चंदा, सुलोचना व प्रेमदत्त आदि ग्रामीण शामिल थे।

62

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *