बच्चों को मजहबी तालीम के साथ ही दुनियावी तालीम भी दिलाएं :– एसडीएम कैराना

Pankaj Kumar

शामली :— शामली में एसडीएम कैराना द्वारा शिक्षा विभाग की ओर से सभी मदरसा संचालकों के साथ विचार गोष्ठी आयोजित की गई पिछले दिनों शिक्षा विभाग के शारदा अभियान के तहत 549 बच्चे शिक्षा से वंचित यानी के मदरसे में दीनी शिक्षा ले रहे थे लेकिन स्कूलों में शिक्षा ग्रहण कर नहीं रहे थे इन्हीं बच्चों को मुख्यधारा में जोड़ने के लिए मदरसा संचालकों से विचार-विमर्श किया गया बुधवार की शाम 4:00 बजे कैराना तहसील सभागार कक्ष में कैराना ब्लाक के मदरसा संचालक की एक बैठक एसडीएम अमित पाल शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित की गई

जिसमें जमीयत उलेमा ए हिंद के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष मौलाना वकील के नेतृत्व में क्षेत्र के सभी मदरसा संचालकों ने शिरकत की बैठक में खंड शिक्षा अधिकारी राजलक्ष्मी पांडे ने बताया कि शिक्षा विभाग के शारदा अभियान के तहत मार्च व जून माह में छेत्र में शिक्षकों द्वारा डोर टू डोर जाकर एक सर्वे कराया था जिसमें 6 से 14 साल के बच्चों के बारे में जानकारी की गई थी कि कितने बच्चे स्कूल में जाते हैं वह कितने बच्चे मदरसों में जाते हैं इसी के तहत 559 बच्चे कैराना ब्लॉक में ऐसे पाए गए जो मदरसों में देनी शिक्षा हासिल कर रहे हैं इन्हीं बच्चों को मुख्यधारा में जोड़ने के लिए सभी मदरसा संचालकों की बैठक ली गई है सभी से कहा गया है कि इन बच्चों को मान्यता प्राप्त स्कूलों में प्रवेश दिलाया जाए उस पर सभी से सुझाव भी मांगे गए वहीं मदरसों मैं स्कूलों की मान्यता दिलाने की बात पर उन्होंने कहा कि कोई मदरसा संचालक अगर भौतिक संसाधन या सुविधा रखता है तो वह चाहे अल्पसंख्यक विभाग शिक्षा विभाग समाज कल्याण विभाग में पंजीकृत करा सकता है लेकिन फॉर्मल शिक्षा होना जरूरी है बैठक में मौलाना अकील ने बताया कि जो बच्चे मदरसे में पढ़ रहे हैं स्कूलों में नहीं जा पा रहे हैं उनके लिए सरकार चिक रमन सरकार की इच्छा है कि उनको मुख्यधारा में जोड़ें और ऐसी तालीम हासिल करे जो रोजगार से जुड़ी हुई है उन्होंने सरकार के सुझाव को चुना है और अपने साथियों को बताया कि अपनी संस्था में अपने तारों में दुनियावी तालीम भी दिलाएं या स्कूलों में बच्चों को भेजें ताकि बच्चों का भविष्य कुशल बने।

43

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *