कई दर्जन घरों के लोग अपने आशियानों में कैद होने को मजबूर

Pankaj Kumar

शामली – सूबे की योगी सरकार तमाम तरह की मूलभूत सुविधाएं लोगों को मुहैया कराने का दावा करती है लेकिन उनके दावे उस समय खोखले साबित होते हैं तब मूलभूत सुविधाओं को लेकर आम जन मानस की परेशानी सामने आती है। ताजा मामला जनपद शामली के थाना भवन ब्लाक के गांव भास्कर मंडी का है जहाँ पर पानी की निकासी न होने के चलते कई दर्जन परिवार अपने घरों में कैद होकर राह रहे है और रोटी पानी को भी मोहताज हैं।

दरअसल पूरा मामला जनपद शामली के थानाभवन ब्लॉक के गांव भास्कर मंडी का है। जहां पिछले 5 वर्षों से लोग मूलभूत सुविधाओं से वंचित है और नरकीय जीवन जीने को मजबूर है। लोगों के आसपास बना तालाब ओवरफ्लो हो चुका है।

जिसके कारण कई दर्जन से ज्यादा ज्यादा लोगों के घर पानी में डूब गए हैं। आसपास भरे पानी से गंदगी के कारण लोग बीमारियों से जूझ रहे हैं तो वही आने जाने के रास्ते बंद हो गए। जिसके कारण लोग अपने घरों में कैद है। लोगों का आरोप है कि कई बार इसकी शिकायत ग्राम प्रधान व खंड विकास अधिकारी को की जा चुकी है, लेकिन आज तक उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई है।

वहीं इस पूरे मामले पर वीडियो थाना भवन का कहना है कि इसमें एक मामला मेरे भी संज्ञान में आया था कि जब बारिश हुई थी तो भास्कर मंडी में कुछ चित्र में पानी भर गया है जहां पर लोगों को आने जाने में समस्या पैदा हो रही है लेकिन इस मामले का मैंने पूरा संज्ञान लिया तो उसमें यह सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम वासियों द्वारा तालाब पर अवैध कब्जा कर लिया गया है जिसकी वजह से तालाब में पानी की निकासी में बाधा बन रही है लेकिन इसकी पूरी जांच कराई जा रही है और तालाब की खुदाई कराई दी जाएगी और पानी की समस्या का निराकरण न कर आ रहा हूं।

अब ऐसे में वीडियो साहब को कौन समझाए कि एक तो लोग पानी की निकासी न होने और जलभराव की समस्या होने से परेशान हैं और आप तालाब पर ग्रामीणों द्वारा कब्जा करने की बात कह रहे हैं ऐसे में सवाल यह भी उठता है कि मुख्यमंत्री ने सत्ता संभालते ही निर्देश दिए थे कि तालाबों को अवैध कब्जे से मुक्त कराया जाए लेकिन अब तालाबों को कब्जा मुक्त नहीं कराया गया जिस कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और उसके बाद ऊपर से आपका यह बयान बेहद ही शर्मनाक है।

26

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *