वनकर्मी बताने वाले एक व्यक्ति द्वारा पैसे वसूले जाने का मामला, वन चौकी से बिजली को चोरीछुपे ढाबे संचालक को कनेक्शन दिये

विनीता खुराना

ऋषिकेश — नीलकंठ महादेव की कांवड़ यात्रा के चलते राजाजी नेशनल पार्क टाईगर रिजर्व क्षेत्रान्तर्गत पड़ने वाले मार्ग पर अवैध रूप से लगी दुकानों से स्वयं को वनकर्मी बताने वाले एक व्यक्ति द्वारा पैसे वसूले जाने का मामला सामने आया है, वही वन चौकी से इस्तेमाल की जाने वाली बिजली को चोरीछुपे ढाबे संचालक को कनेक्शन दिये जाने पर उच्चाधिकारियों ने जांच कर दोषी कर्मचारियों के खिलाफ आवश्यक कार्यवाही किए जाने की बात कही है।
गौरतलब है कि बीते 16 जुलाई से प्रसिद्ध नीलकंठ महादेव की कांवड़ यात्रा शुरू हुई थी जिसके चलते इस बार जिला प्रशासन ने लक्ष्मण झूला पुल बन्द होने की दशा में राम झूला पुल से नीलकंठ की ओर जाने व लौटते हुए राजाजी नेशनल पार्क टाईगर रिजर्व के मध्य पड़ने वाले 9 किलोमीटर मार्ग से होकर वीरभद्र बैराज की तरफ से ऋषिकेश की ओर निकाला जा रहा है, जिसके तहत टाईगर रिजर्व क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले मार्ग पर ठेली, फड़ वालों ने अवैध रूप से डेरा जमा लिया है जिसका लाभ जहां पैदल यात्रियों को मिल रहा है वही कुछ वन कर्मी भी इनसे अवैध वसूली करके लाभान्वित हो रहे है, रिज़र्व पार्क क्षेत्र में एक आइसक्रीम बेचने वाले ने जानकारी दी है कि उसके पास एक व्यक्ति अपने को वनकर्मी बता कर पहुँचा और पार्क परिधि में अवैध रूप से ठेली लगाने पर धमकाया तथा जबरन 200 रुपये लेकर चला गया, साथ ही अन्य ठेली, फड़ वालों ने भी इस प्रकार से पैसे वसूलने का आरोप वन कर्मी पर लगाया है, वही गोहरी रेंज के कुछ वन कर्मी तो इससे भी चार कदम आगे निकले, जिन्होंने पार्क क्षेत्र में लगी अवैध दुकानों को वन चौकी से ही बिजली के कनेक्शन दे दिए, अधिकारियों की नाक के नीचे हो रहे इस प्रकार के अवैध कार्यो में लिप्त कर्मचारियों के हौसले कितने बुलंद हैं, इसका अंदाजा उनके द्वारा किये गए कार्यों को देखकर लगाया जा सकता है
वही इस सम्बंध में राजाजी नेशनल पार्क टाईगर रिजर्व गौहरी वन रेंज के क्षेत्राधिकारी दिनेश उनियाल ने कहा कि वह उक्त मामले की जांच करवाएंगे यदि कोई वन कर्मी दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जाएगी। साथ ही उन्होंने बताया कि पार्क क्षेत्र में कांवड़ियों को पैदल भेजने के लिये प्रशासन ने कोई भी जानकारी पार्क प्रबंधन को नही दी गयी थी और जबरन कांवड़ियों को पार्क के जंगली रास्ते मे भेज दिया गया जिसकी वजह से ही अवैध रूप से ठेली, फड़ वाले उक्त मार्ग पर आ घुसे है जिन्हें हटाने के आदेश दिए गए थे।

38

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *