केदारनाथ यात्रा मार्ग में चलाया सफाई अभियान

रुद्रप्रयाग – विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर जिले के सभी गावों के अलावा केदारनाथ से लेकर मुख्यालय रुद्रप्रयाग तक अनेक स्थानों पर सफाई अभियान चलाया गया। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल के निर्देशों पर जिले में व्यापक सफाई अभियान चलाया गया जिसमें जिले के अफसर, जनप्रतिनिधि, छात्र और स्थानीय जनता ने प्रतिभाग किया। सफाई अभियान में केदारनाथ यात्रा पड़ाव, बेस कैम्प, रूद्रा प्वाइंट, बड़ी लिंचौली, छोटी लिंचौली, भीमबली, जंगलचट्टी, गौरीकुण्ड सहित चारधाम यात्रा में आने वाले 23 कस्बों के साथ ही सभी गांवों व नगर पालिका क्षेत्रों में वृहद स्वच्छता अभियान चलाया गया। स्वजल ने सभी लोगों द्वारा स्वच्छ पर्यावरण के लिए कपड़े के थैले वितरित किए। मुख्यालय में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की मौजूदगी में अलकनंदा-मंदाकिनी संगम स्थल, संगम बाजार व नगर पालिका क्षेत्र में सफाई अभियान चलया गया। जिलाधिकारी ने स्वयं सफाई कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। स्वच्छता अभियान में जिलाधिकारी के साथ ही नगरपालिका अध्यक्ष गीता झिंक्वाण, एसपी अजय सिंह, डीएफओ, एडीएम, सीएमओ, सीवीओ सहित अन्य कई अधिकारी, स्कूल बच्चे व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। इधर सभी गांवों में उप राजस्व निरीक्षक, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी के माध्यम से स्वच्छता अभियान चलाया गया जिसमें ग्राम प्रधान, गांववासी व अन्य जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस मौके पर राइंका इंटर कॉलेज के एनएसएस के कार्यक्रम अधिकारी एसपी पुरोहित के नेतृत्व में छात्रों ने सफाई अभियान चलाया। इसके बाद नपा सभागार में एक गोष्ठी हुई जिसमें वक्ताओं ने पर्यावरण को लेकर अपने सुझाव रखे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष गीता झिंक्वाण, केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने कहा कि वातावरण एक परिवेश है जो पृथ्वी नामक इस ग्रह पर जीवन को विकसित, पोषित होने में मदद करता है। पर्यावरण को कैसे बचाया जाए और इसे सुरक्षित रखने के बारे में हमसब को जानना चाहिए। डीएम मंगेश मंगेश घिडियाल ने कहा कि भारत सरकार स्वच्छता को लेकर बहुत गम्भीर है प्रत्येक नगर पालिकाओं, पंचायतों और गांवों में पर्यावरण मित्र रखे गए हैं जिन्हें प्रत्येक घर से कूड़ा उठाना है और जैविक अजैविक कूडे को अलग-अलग कर उसे निस्तारित किया जाना आवश्यक है। उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि रूद्रप्रयाग नगर पालिका द्वारा ट्राचिंग ग्राउंड में कूड़े की छटनी नहीं की जा रही है जबकि काम्पेक्टर मशीन से प्लास्टिक को काम्पेक्ट कर कूड़े को बेचा जा सकता है। इस मौके पर डीएफओ मयंक शेखर झा, सीएमओ डा़ एसके झा ने भी विचार रखे।

18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *