गुप्तांग काटने और पॉक्सो ऐक्ट के मामले में मच्छीवाला बाबा को दोषी करार, 10 वर्ष की कठोर कैद और पचास हजार रुपये के अर्थदंड

हरिद्वार – चार वर्षीय मासूम का गुप्तांग काटने और पॉक्सो ऐक्ट के मामले में विशेष जज पॉक्सो कोर्ट अर्चना सागर ने मच्छीवाला बाबा को दोषी करार दिया है। पॉक्सो कोर्ट ने दोषी को 10 वर्ष की कठोर कैद और पचास हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है। शासकीय अधिवक्ता आदेश चौहान ने बताया कि 20 दिसम्बर 2014 की दोपहर बारह बजे कोतवाली सिविल लाइंस रुडक़ी क्षेत्र में एक चार वर्षीय मासूम घर के बाहर खेल रहा था। उसी दौरान मौका पाकर आरोपी मोहम्मद असलम उर्फ मच्छीवाला बाबा उर्फ जोहड़वाला पुत्र शाह मोहम्मद निवासी सेक्टर एक थाना झूली उर्फ मूली जिला धनबाद झारखंड किशोर को उठा कर ले गया था। पीडि़त बच्चे ने परिजनों को अपनी आपबीती में आरोपी मच्छीवाला बाबा पर उसका गुप्तांग काटने का आरोप लगाया था। आरोप था कि गांव के पास तालाब पर पीडि़त का गुप्तांग काटा था। किशोर को लहूलुहान हालत में रोते बिलखते देख पहुंचे बाइक सवार दो युवक पीडि़त को घर लेकर लाए थे। उसी दिन आरोपी को गन्ने के खेत में तलाश किया गया, लेकिन उसका पता नहीं चला था।
परिजनों ने पीडि़त किशोर को इलाज के लिए रुडक़ी सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया था। घटना के तीन दिन बाद मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। पुलिस ने केस की विवेचना कर आरोपी मच्छीवाला बाबा के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी। पॉक्सो कोर्ट ने गुप्तांग काटने व पॉक्सो ऐक्ट का आरोप तय किए थे। सरकारी पक्ष की ओर से चौदह व बचाव पक्ष ने दो गवाह पेश किए गए। इस मामले में विशेष जज पॉक्सो कोर्ट अर्चना सागर ने मच्छीवाला बाबा को दोषी करार दिया है। पॉक्सो कोर्ट ने दोषी को 10 वर्ष की कठोर कैद और पचास हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है।—पीडि़त को आर्थिक सहायताहरिद्वार। पॉक्सो कोर्ट ने पीडि़त को निर्भया फण्ड से प्रतिकर धनराशि के रूप में एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिलाने के निर्देश जारी किए हैं।

16

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *