पूर्व सांसद की बेटी और दो बेटे समेत चार लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में मुकदमा दर्ज

हरिद्वार – ज्वालापुर पुलिस ने हरिद्वार के पहले सांसद भगवानदास राठौर की बेटी और दो बेटे समेत चार लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया। मुकदमा कोर्ट के आदेश पर दर्ज किया गया है। आरोप है कि 28 लाख लेने के बाद भी आरोपियों ने भूमि की रजिस्ट्री नहीं की। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक बहादरपुर जट पथरी निवासी संदीप कमार पुत्र रामचंद्र, हाल निवासी हरिलोक कॉलोनी ने शिकायत में बताया कि उसकी पहचान रंजना राठौर और उनके पति मनोज सिंह निवासी शास्त्री नगर ज्वालापुर, हाल निवासी पिलग्रिन ला निकट ओल्ड इनकम टैक्स ऑफिस मल्लीताल नैनीताल से थी। 15 जून वर्ष 2013 को संदीप ने रंजना राठौर से रानीपुर रावली महदूद स्थित एक भूमि का सौदा 50 लाख रुपये में तय किया। संदीप ने 28 लाख रुपये नगद दे दिए, बाकी के रुपये 30 अक्तूबर वर्ष 2015 को देना तय हुआ, जब रंजना राठौर को भूमि की रजिस्ट्री संदीप के नाम करनी थी। इकरारनामे के तहत संदीप को भूमि पर कब्जा भी दे दिया गया। 30 अक्तूबर वर्ष 2015 को संदीप रजिस्ट्रार कार्यालय में बाकी के 22 लाख रुपये लेकर पहुंच गए। लेकिन रंजना रठौर नहीं आई। जब रंजना नहीं आई तो संदीप ने लीगल नोटिस भेज दिया। बाद में मालूम हुआ कि भूमि को वर्ष 2011 में शायरा रिजवी पत्नी आईएच रिजवी निवासी शिवालिक नगर रानीपुर और फैसल राव पुत्र रागिब निवासी बीएचईएल रानीपुर को बेच दिया गया था। आरोप है कि संदीप ने अपने दिए 28 लाख रुपये वापस मांगे तो रंजना राठौर ने झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी। संदीप ने ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के अलावा कुछ रुपये आरोपी रंजना और उसके पति मनोज सिंह और भाई राजन राठौर के हाथ में नगद दिए थे। करीब पांच बार में संदीप ने 28 लाख रुपये दिए थे। पुलिस ने आरोपी रंजना राठौर, उसके पति मनोज सिंह और दो भाई राजन राठौर और कंजन राठौर पुत्रगण भगवानदास राठौर निवासीगण शास्त्री नगर ज्वालापुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। बता दें कि भगवानदास हरिद्वार लोकसभा सीट के पहले सांसद रहे हैं। वर्ष 1977 से लेकर वर्ष 1980 तक भगवानदास हरिद्वार के सांसद रहे हैं। रंजना, राजन और कंजन राठौर तीनों भगवानदास के बच्चे हैं। भगवानदास बीएलडी के टिकट से सांसद बने थे। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी मनोज मैनवाल ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मामला दर्ज किया गया है।

20

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *