रेलवे की भूमि पर किये 26 अतिक्रमण चिह्नित

हरिद्वार – हरिद्वार रेलवे प्रशासन ने अपनी भूमि से अवैध कब्जों को हटाने के लिए कमेटी का गठन किया है। रेलवे की भूमि पर 26 अतिक्रमण चिह्नित किए गए हैं, जिन्हें जल्द हटाने के निर्देश दिए गए हैं। कब्जा खाली न करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।रेलवे स्टेशन के आसपास और खाली पड़ी भूमि और बीते कुछ सालों से कई लोगों ने अवैध कब्जे कर रखे हैं। कुछ दिनों पहले एक व्यक्ति ने रेलवे मंडल और बोर्ड में रेलवे की भूमि पर अवैध कब्जे किए जाने की लिखित शिकायत भी की थी। इसके बाद हरिद्वार रेल प्रशासन जागा। अब अवैध कब्जे हटाने को लेकर एक कमेटी का गठन किया गया। जिसमें आरपीएफ और इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिक विभाग को शामिल किया गया। कमेटी ने अब तक रेलवे की भूमि पर किए गए 26 अतिक्रमण चिह्नित कर लिए हैं। दो दिन के अंदर कब्जे हटाने के निर्देश दिए गए हैं। अगर कब्जा नहीं हटाया जाता है तो रेलवे प्रशासन इनको हटाने के साथ ही कब्जाधारियों के खिलाफ कार्रवाई करेगा। क्या कहते हैं यूनियन के नेतारेलवे की भूमि पर अवैध कब्जे करने वालों पर कार्रवाई तो होनी ही चाहिए। कर्मचारी आवासों में कुछ लोग अवैध रूप से कब्जा करके रह रहे थे। रेलवे कर्मचारियों को आवास उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे। अधिकारियों के संज्ञान में यह मामला लाया गया तो कमेटी बनाई गई। अब कब्जे हटवाए जा रहे हैं। -अजय तोमर, शाखा सचिव, नार्दन रेलवे मेंस यूनियनरेलवे की भूमि पर किए गए अतिक्रमण को पूरी तरह से हटाया जाए। प्रवेशद्वार के आसपास सालों से रेल की भूमि पर कब्जे हो रखें हैं। अतिक्रमण हटाने में किसी तरह का भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। अगर भेदभाव किया जाता है तो हमारी यूनियन उग्र आंदोलन करने को बाध्य होगी। -केके सक्सेना, शाखा सचिव, उत्तरी रेलवे मजदूर यूनियन वर्जनरेलवे की भूमि से अवैध कब्जे हटाने के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है। फिलहाल 26 कब्जे चिह्नित किए गए हैं। जिनको तत्काल कब्जा हटाने के लिए कहा गया है। ऐसा न करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। – पंकज शर्मा, निरीक्षक इंजीनियरिंग विभाग

35

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *