कनखल और ज्वालापुर में हुई पांच चोरियों का हुआ खुलासा

हरिद्वार – ज्वालापुर और कनखल में हुई पांच चोरियों का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। कनखल और ज्वालापुर की संयुक्त टीम ने अंतरराज्यीय चोर गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। जबकि दो आरोपी अभी भी फरार है। एक आरोपी पहले ही चोरी के आरोप में ऋषिकेश से गिरफ्तार हो चुका है। आरोपियों के पास से दस मोबाइल फोन, लैपटॉप, एलईडी, चोरी के उपकरण और घटना में प्रयुक्त हुई कार को बरामद हुई है। एसएसपी जन्मेजय खंडूरी प्रभारी ने ज्वालापुर कोतवाली में पत्रकार वार्ता में बताया कि बीते दिनों ज्वालापुर के सराय, श्रीनाथनगर और कनखल के गुरुबख्श विहार में ताबड़तोड़ चोरियां हुई थी। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, एएसपी आयुष अग्रवाल, सीओ कनखल विजेंद्र डोभाल के नेतृत्व में संयुक्त टीम का गठन किया गया था। टीम ने सीसीटीवी खंगाले और पुलिस को कुछ सबूत भी मिले। लेकिन आरोपी पुलिस की पकड़ में नहीं आ सके। बीते मंगलवार की रात ज्वालापुर पुलिस को सूचना मिली की चोरी के इरादे से कुछ युवक हरिद्वार आ रहे हैं। पुलिस ने हरिलोक तिराहे पर चेकिंग शुरू कर दी और चेकिंग के दौरान पुलिस टीम को एक संदिग्ध कार आती दिखाई दी। कार की तलाशी ली गई तो कार में एलईडी टीवी, मोबाइल फोन, एक बैग, लैपटॉप और अन्य सामान रखा हुआ था। कार में सवार दोनों युवकों को पुलिस कोतवाली ले आई। पूछताछ करने पर युवकों ने अपने नाम मुस्तकीम उर्फ सलमान पुत्र मुर्सलीन और इसरार पुत्र यूनुस निवासीगण शाहजमाल कस्बा किठौरा मेरठ, उत्तर प्रदेश को बताया। आरोपियों ने चोरी की वारदात को कबूल करते हुए बताया कि उसने साथ हरिद्वार में चोरी की घटनाओं में फिरोज पुत्र बाबू डासना गाजियाबाद, मोहसीन पुत्र सलीम और रियाजुद्दीन पुत्र शौकल अली निवासी मुकीमपुर बिलखुला हापुड़ भी शामिल थे। पुलिस ने बुधवार को दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है। एसएसपी जन्मेजय प्रभाकर खंडूरी ने बताया कि फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है। घटना में शामिल फिरोज पुत्र बाबू चार दिन पहले ही ऋषिकेश पुलिस के हत्थे चढ़ा है। आरोपी के पास से एक कार और करीब 118 मोबाइल फोन बरामद हुए थे। आरोपियों के गैग में छह लोग शामिल हैं। सभी एक साथ मिलकर जगह-जगह घटनाओं को अंजाम देते थे। आरोपियों ने ऋषिकेश, मेरठ, मुजफ्फरनगर में भी चोरियों की घटना को अंजाम दिया है।

25

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *