रजनीकांत के राजनीति में न आने से लाभ उठाने की कोशिश में जुटी है भाजपा

नई दिल्ली ——

फिल्म स्टार रजनीकांत की तमिलनाडु की राजनीति में उतरने की मनाही के बाद फिर से सियासी समीकरण बनने लगे हैं। भाजपा जहां रजनीकांत के सक्रिय राजनीति में आने से लाभ उठाने की कोशिश कर सकती थी, वह अब उनके राजनीति से दूर रहने की स्थिति का भी लाभ उठाने की कोशिश करेगी। फिल्म अभिनेत्री खुशबू को अपने साथ लाने के बाद भाजपा ने अब पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी एल शिव रामकृष्णन को भी अपने साथ जोड़ा है। भाजपा की नजर राज्य के छोटे दलों पर हैं, जिनको साथ लाकर वह गठबंधन को मजबूत करने के साथ अपनी भूमिका भी बढ़ाने की कोशिश करेगी। तमिलनाडु में छोटे दलों की अहम भूमिका है। इनमें एमडीएमके, पीएमके आदि चुनाव में अहम भूमिका निभाते रहे हैं। कुछ और छोटे दल भी सामाजिक समीकरणों के लिहाज से अहम हैं। गठबंधनों के लिए इन दलों की भूमिका भी अहम होगी। भाजपा इस समय अन्नाद्रमुक के साथ है, लेकिन दोनों के रिश्ते बहुत अच्छे नहीं माने जा रहे हैं। तमिलनाडु में यह पहला विधानसभा चुनाव होगा, जब दोनों प्रमुख क्षेत्रीय दल द्रमुक और अन्नाद्रमुक अपने दशकों पुराने चमत्कारी नेतृत्व वाले नेताओं के बिना चुनाव मैदान में होंगे। द्रमुक नेता एम करुणानिधि और अन्नाद्रमुक की जयललिता के निधन के बाद हो रहे इन चुनावों में भाजपा अपनी भूमिका बढ़ाने की कोशिश कर रही है। पिछले दिनों जब फिल्म स्टार रजनीकांत ने राजनीति में सक्रिय होने और अपनी पार्टी बनाने की घोषणा की थी तो सभी दलों में अफरा-तफरी मची थी। हालांकि, कुछ दलों ने रजनीकांत की सक्रियता को भाजपा की बी टीम कहकर संबोधित किया था। अब जबकि रजनीकांत ने स्वास्थ्य संबंधी कारणों से राजनीतिक पार्टी नहीं बनाने का फैसला किया है, तब चुनाव को लेकर नए समीकरण बनने लगे हैं। हालांकि, भाजपा नेताओं का मानना है कि रजनीकांत के राजनीति में न आने के बाद गठबंधन ज्यादा मजबूत होगा। द्रमुक के साथ सीधा मुकाबला होने से अन्नाद्रमुक को भी अब भाजपा की ज्यादा जरूरत है। ऐसे में भाजपा गठबंधन में ज्यादा सीटों की मांग कर सकती है। वैसे भी भाजपा के लिए यह चुनाव राज्य में अपनी जमीन मजबूत करने का है ताकि वह प्रभावी भूमिका में गठबंधन के बगैर अपनी प्रभावी भूमिका बना सके या गठबंधन में फ्रंट सीट पर आ सके। तमिलनाडु में भाजपा पहले भी बड़ी ताकत नहीं रही है। विधानसभा का चुनाव उसके लिए हमेशा मुश्किल ही रहा है। तमिलनाडु के प्रभारी भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने जिस तरह से रजनीकांत की तारीफ की है, उससे साफ है कि भाजपा की कोशिश चुनाव में रजनीकांत की सहानुभूति को अपने पक्ष में लाने की है।

72

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *