बीजेपी दे पाएगी ममता को मात सौगत रॉय ने दिया हर सवाल का जवाब

कोलकाता —-

पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए अभी से ही राजनीतिक आजमाइश जारी है। हाल ही में गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की दो दिवसीय यात्रा का समापन किया है, जहां सत्तारूढ़ तृणमूल के सात विधायकों समेत दस नेताओं ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खास माने जाने वाले शुभेंदु अधिकारी के पार्टी में शामिल होने से भाजपा को आगामी विधानसभा चुनावों में बड़े लाभ की उम्मीद है। शुभेंदु अधिकारी न सिर्फ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की टीम के प्रमुख सदस्यों में से एक थे, बल्कि कई सीटों पर अपना प्रभाव रखते थे। अधिकारी के टीएमसी छोड़ने से पार्टी पर कितना असर पड़ेगा प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दायर मामलों में शुभेंदु अधिकारी पर दबाव था, मगर मुस्लिम वोट भाजपा के लिए एक महत्वपूर्ण कारक होगा। तो चलिए जानते हैं सौगत रॉय ने इस एक्सक्लुसिव इंटरव्यू में क्या-क्या कहा है हर्गिज नहीं। मुझे नहीं लगता कि भाजपा का प्रभाव बढ़ रहा है। उसके धरातल पर कोई प्रमाण नहीं दिखते। अमित शाह चले गए हैं, उन्होंने एक कार्यक्रम में करोड़ों रुपये खर्च किए और उन्हें बहुत सारे लोग मिले लेकिन वे सभी बाहरी हैं। मुझे नहीं लगता कि बड़ी संख्या में लोग भाजपा में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि केवल छह टीएमसी विधायक शामिल हुए, कोई प्रलय नहीं आई है, यह कुछ नहीं है। अमित शाह ने दो रैलियां कीं, यही अगर ममता जाती हैं और रैली करती हैं तो इसका आकार दोगुना होगा। तो इससे कैसे साबित होता है कि भाजपा का प्रभाव बढ़ रहा है नहीं, नहीं, उन्होंने नंदीग्राम आंदोनल का नेतृत्व नहीं किया। उस समय शुभेंदु एक नौजवान थे। वह सिर्फ विधायक बने थे। हालांकि, उन्होंने एक भूमिका निभाई, उनके पिता ने भी इसमें भूमिका निभाई। उन्होंने नंदीग्राम आंदोलन का नेतृत्व नहीं किया, वह नंदीग्राम स्थानीय नहीं हैं। वह एक ऐसी जगह से हैं, जो नंदीग्राम से लगभग 100 किलोमीटर दूर है। मगर शुभेंदु के पास एक लोकप्रिय नेता के रूप में कुछ प्रासंगिकता थी। भाजपा में जाने के बाद वह मुस्लिम समर्थन आधार खो देंगे। सिर्फ नंदीग्राम में ही 40 फीसदी मुस्लिम हैं। शुभेंदु अधिकारी एक गेम खेल रहे थे। उन्होंने मेरे साथ कई दौर की बातचीत की, फिर हमारी अंतिम बैठक हुई, जिसमें अभिषेक (बनर्जी), सुदीप (बंदोपाध्याय) और प्रशांत किशोर भी मौजूद थे।तब हमने ममता बनर्जी से बात की। हमने शुभेंदु को उनसे बात करने को कहा। ममता ने उनसे कहा ष्शुभेंदु, आप पार्टी में काम करते हैं, फिर क्या समस्या ह उन्होंने कहा ष्नहीं, दीदी, मैं आपके साथ रहूंगा।ष् इसलिए मैंने यह बात प्रेस से कही। शुभेंदु अधिकारी ने कहा था कि वह 6 दिसंबर को सब कुछ कह देंगे। तब अगले दिन उन्होंने मुझे एक व्हाट्सऐप मैसेज भेजा, जिसमें कहा गया था, श्आपने इसे प्रेस में लीक किया है, हम आपके साथ काम नहीं कर सकते।श् मगर बीजेपी के साथ उसका सौदा पहले ही फाइनल हो चुका था। हम जानते थे कि वह बहाने बना रहे हैं। तब वह खुद विधायकों को इकट्ठा करने की कोशिश कर रहे थे, मगर उन्हें बहुत विधायकों का साथ नहीं मिला। पार्टी में प्रशांत किशोर कुछ भी तय नहीं करते, वे सिर्फ रणनीति की सलाह देते हैं। वह अच्छा काम कर रहे हैं और पार्टी को अच्छे कार्यक्रम सुझा रहे हैं।

84

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *