अमित शाह के दौरे से पहले पश्चिम बंगाल का सियासी पारा चढ़ा

नई दिल्ली ——

पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले राजनीति तेज हो गई है। पिछले दिनों राज्य के दौरे पर गए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा पर हुए पथराव के बाद भाजपा व तृणमूल कांग्रेस में टकराव बढ़ गया है। भाजपा के कई नेताओं की सुरक्षा बढ़ाई गई है। अब गृह मंत्री अमित शाह इस सप्ताह दो दिन के पश्चिम बंगाल के दौरे पर जा रहे हैं। इस बीच भाजपा ने मंगलवार को चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है। पश्चिम बंगाल में बढ़ रही राजनीतिक हिंसा के बीच भाजपा ने भी पूरी तरह मोर्चा संभाल लिया है। उसके बड़े नेता लगातार राज्य का दौरा कर रहे हैं, ताकि कार्यकर्ताओं का मनोबल ऊंचा रहे और वह तृणमूल कांग्रेस के मुकाबले डटे रहें। यही वजह है कि गृह मंत्री अमित शाह इस सप्ताह राज्य के दौरे पर जा रहे हैं। इसके पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राज्य का दौरा किया था। तब उनके काफिले पर हुए पथराव से भाजपा और तृणमूल कांग्रेस में टकराव तेज हो गया था। इस घटना के जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ केंद्र सरकार ने एक्शन भी लिया, जिससे तनाव और बढ़ा। इस बीच भाजपा ने राज्य में अपने कार्यकर्ताओं की हत्या को लेकर तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है। अब गृह मंत्री अमित शाह एक बार फिर राज्य के दौरे पर जा रहे हैं। इसके पहले नवंबर की शुरुआत में भी शाह ने राज्य का दौरा किया था। लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को तगड़ी टक्कर देने के बाद राज्य में भाजपा तेजी से बढ़ रही है, इससे तृणमूल कांग्रेस की परेशानियां भी बढ़ रही हैं और टकराव भी बढ़ रहा है। भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग का दरवाजा भी खटखटा दिया है। पार्टी नेता स्वपन दासगुप्ता और सब्यसाची दत्ता ने चुनाव आयोग को ज्ञापन सौंपकर वहां के हालात पर चिंता जताई और आयोग से हस्तक्षेप की मांग की है। इन नेताओं ने कहा है कि राज्य में सत्तारूढ़ दल की तरफ से राजनीतिक हिंसा की जा रही है। इसके अलावा राज्य के कर्मचारी भी तृणमूल कांग्रेस का समर्थन करने की बात कर रहे हैं। ऐसे में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कैसे हो सकता है। भाजपा नेताओं ने बताया कि चुनाव आयोग ने जल्द ही अपनी एक टीम राज्य के दौरे पर भेजने की बात कही है। सूत्रों के अनुसार, उप चुनाव आयुक्त सुदीप जैन 17 दिसंबर को राज्य का दौरा करेंगे। भाजपा ने पश्चिम बंगाल पुलिस की निष्पक्षता पर भी सवाल उठाए और वहां केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग की है। इस बीच, केंद्र सरकार ने भाजपा अध्यक्ष पर हुए हमले के बाद राज्य के दौरे पर जाने वाले वीआईपी की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की है। सूत्रों के अनुसार, कई नेताओं की सुरक्षा बढ़ाई जा रही है। इनमें भाजपा के तमाम नेता शामिल हैं। भाजपा के महासचिव प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय को पहले ही जेड सुरक्षा बढ़ोतरी के साथ बुलेट प्रूफ गाड़ी मुहैया कराने की भी बात कही है। अब कई नेताओं को अलग श्रेणियों की सुरक्षा दी जा रही है।

21

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *