जानिये चर्मरोग में क्या करता है अंगूर

औषधीय गुण

  1. बसन्त ऋतु में अंगूर की डाली को काटने से एक प्रकार का रस निकलता है। उसको त्वचा के ऊपर लगाने से चर्मरोगों में बहूत लाभ होता है।
  2. लकड़ी की भस्म को सिरके में मिलाकर लगाने से कुत्ते के जहर में लाभ होता है।
  3. लकड़ी की भस्म 6 माशे, गोखरू के रस में कुछ दिन पिलाने से पथरी में लाभ होता है।
  4. पत्ते पर घी चुपड़कर के आग पर खूब गर्म करके पोतो पर बांधने से सूजन कम होती है।
  5. पित्त ज्वर और उसकी प्यास को मिटने के लिए अगूर का शर्बत पिलाना चाहिये।
  6. काढ़ा पिलाने से रूका हुआ पेशाब खुलकर आता है।
26

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *