किसान आंदोलनकारियों को खालिस्तानी झंडा फहराने के लिए उकसा रहा चरमपंथी संगठन सिख फॉर जस्टिस

नई दिल्ली ———

किसान आंदोलन के बहाने देश विरोधी ताकतें पंजाब के भोले-भाले लोगों को भड़काने की साजिश में लगी हुई हैं। खुफिया एजेंसियों ने खुलासा किया है कि सिख फॉर जस्टिस नाम का चरमपंथी संगठन पंजाब-हरियाणा सीमा पर स्थित शंभू गांव में लोगों को भड़काने की साजिश रच रहा है। यह संगठन लोगों को खालिस्तानी झंडा फहराने के लिए उकसा रहा है। एनआईए ने हाल ही में, खालिस्तानी चरमपंथी संगठन सिख फॉर जस्टिस में शामिल 16 विदेशियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। भारत की मल्टी एजेंसी सेंटर की रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि सिख फॉर जस्टिस पंजाब-हरियाणा बॉर्डर के शम्भू गांव में साजिश रच रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक सिख फार जस्टिस (एसजेएफ) शम्भू-बॉर्डर पर खालिस्तानी झंडा फहराने के लिए लोगों को उकसा रहा है। एसजेएफ ने खालिस्तानी झंडा फहराने वाले लोगों को इनाम देने की घोषणा की है।  रिपोर्ट के मुताबिक खालिस्तान जिंदाबाद संगठन के कई पोस्टर भी चंडीगढ में लगाने की कोशिश की गई है। इधर देश की जांच एजेंसी एनआईए ने हाल ही में खालिस्तानी चरमपंथी प्रदर्शन में शामिल 16 विदेशियों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है। इन लोगों पर विदेशों में बैठकर भारत के खिलाफ साजिश रचने का आरोप है। जिन 16 खालिस्तान समर्थक विदेशियों के खिलाफ  एनआईए ने चार्जशीट दाखिल की है, उनमें परमजीत सिंह पम्मा, गुरपतवंत सिंह पन्नू और जेएस धालीवाल जैसे नाम शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि कुछ सिख संगठन अलग श्खालिस्तानश् बनाने के लिए श्रेफरेंडम 2020श् के बैनर तले एक अलगाववादी अभियान चला रहे हैं।  एनआईए इनके खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। इनमें से जिनकी प्रॉपर्टी भारत में है, उसे जब्त किया जा रहा है।

93

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *