दिल्ली कूच से पहले ही हरियाणा में अनेक किसान नेता गिरफ्तार

नई दिल्ली

केंद्र सरकार के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के 26 नवंबर के राष्ट्रव्यापी दिल्ली कूच से पहले ही हरियाणा में किसान नेताओं की धरपकड़ शुरू हो गई है। वहीं, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पंजाब के साथ लगने वाली राज्य की सीमाएं 26 और 27 नवंबर को बंद रहेंगी।  इस बीच, हरियाणा पुलिस ने जनता के लिए एडवाइजरी जारी कर उनसे अपनी यात्रा योजनाओं को संशोधित करने की अपील की है। खट्टर ने कहा कि लोगों को दो दिन के लिए पंजाब के साथ लगने वाली राज्य की सीमाओं पर यात्रा करने से बचने की सलाह दी गई है क्योंकि ये सीमाएं सील रहेंगी। हरियाणा सरकार ने यात्रियों की सुविधा के लिए एक ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है जिसमें कहा गया है कि 25 और 26 नवंबर को सड़क द्वारा पंजाब से हरियाणा में प्रवेश करने वाले स्थानों तथा 26 और 27 नवंबर को हरियाणा से दिल्ली में प्रवेश करने वाले स्थानों पर लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

पुलिस विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि विभिन्न किसान संगठनों ने 26 और 27 नवंबर को श्दिल्ली चलोश् का आह्वान किया है। उसके मद्देनजर राज्य में नागरिक और पुलिस प्रशासन ने कानून व्यवस्था, यातायात और सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए व्यापक प्रबंध किए हैं। इन प्रबंधों का उद्देश्य प्रदेश में कानून और व्यवस्था बनाए रखना, किसी भी प्रकार की हिंसा को रोकने और सार्वजनिक शांति बनाए रखने, यातायात और सार्वजनिक परिवहन प्रणालियों के कामकाज को सुविधाजनक सुनिश्चित करना है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी की स्थिति के कारण लागू होने वाले निर्देशों को भी ध्यान में रखा गया है। पुलिस विभाग को मिली सूचनाओं के अनुसार दिल्ली जाने के लिए बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों द्वारा विभिन्न सीमा रास्तों से होते हुए पंजाब से हरियाणा में प्रवेश करने की सम्भावना है। इसके अलावा, हरियाणा से दिल्ली जाने वाले प्रदर्शनकारियों का मुख्य फोकस चार प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग अंबाला-दिल्ली, हिसार-दिल्ली, रेवाड़ी-दिल्ली और पलवल-दिल्ली होंगे। अंबाला जिले के शंभू बॉर्डर, भिवानी जिले के मुढ़ाल चैक गांव, करनाल जिले की घरौंडा अनाज मंडी, झज्जर जिले के बहादुरगढ़ में टिकरी बॉर्डर तथा सोनीपत जिले के राई राजीव गांधी एजुकेशन सिटी में भी प्रदर्शनकारियों द्वारा एकत्रित होने का एक विशेष आह्वान किया गया है। प्रवक्ता के अनुसार उचित कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पुलिस द्वारा पंचकूला, अंबाला, कैथल, जींद, फतेहाबाद और सिरसा जिलों में सड़कों के माध्यम से पंजाब से हरियाणा में प्रवेश करने वाले सीमा रास्तों पर 25, 26 और 27 नवंबर को यातायात को मोड़ा जा सकता है या सड़क को अवरुद्ध किया जा सकता है। इसी प्रकार, दिल्ली की ओर जाने वाले चार प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्गों, यानी अंबाला से दिल्ली, हिसार से दिल्ली, रेवाड़ी से दिल्ली और पलवल से दिल्ली की तरफ भी अंबाला जिला के शंभू बॉर्डर, भिवानी जिला के गांव मुढ़ाल चैक, करनाल जिला की घरौंडा अनाज मंडी, झज्जर जिला के बहादुरगढ़ में टिकरी बॉर्डर तथा सोनीपत जिला के राई राजीव गांधी एजुकेशन सिटी से ट्रैफिक को डाइवर्ट किया जा सकता है या सड़क को अवरुद्ध किया जा सकता है।

121

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *