ऋषिकुल स्नातक परिषद के तत्वाधान में मनाया गया शताब्दी समारोह

हरिद्वार – आयुर्वेद चिकित्सा, शिक्षा के क्षेत्र में देश की प्राचीन गौरवशाली संस्था ऋषिकुल आयुर्वेदिक महाविद्यालय का शताब्दी समारोह मालवीय प्रेक्षागृह में पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ प्रारम्भ हुआ। उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति डा.अभिमन्यु कुमार की अध्यक्षता तथा आयुर्वेद तथा यूनानी सेवाओं के निदेशक डा.अरूण त्रिपाठी, परिसर निदेशक डा.सुनील जोशी की गरिमामय उपस्थिति में आयोजित शताब्दी समारोह एवं ऋषिकुल स्नातक परिसर के चैबीसवें सम्मेलन समारोह में आये हुए पूर्व स्नातकों, चिकित्सकों, का स्वागत करते हुए स्नातक परिषद के अध्यक्ष डा.रमाकांत शर्मा, सचिव डा.देवेंद्र चमोली ने महामना पं.मदन मोहन मालवीय द्वारा स्थापित ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज के चिकित्सा, शिक्षा के क्षेत्र में दिये गये योगदान पर प्रकाश डाला। ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के पूर्व स्नातक एवं परिसर निदेशक डा.सुनील जोशी ने महामना पं.मदन मोहन मालवीय को नमन करते हुए शताब्दी समारोह में पधारे देश के प्रसिद्ध चिकित्सकों एवं पूर्व स्नातकों का अभिनंदन किया। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति डा.अभिमन्यु कुमार ने देश की प्राचीन संस्था ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के शताब्दी वर्ष को अविस्मरणीय समारोह के माध्यम से आयोजित करने के लिए ऋषिकुल परिवार को बधाई दी। उन्होंने कहा कि महामना पं. मदन मोहन मालवीय जी ने सौ वर्ष पूर्व जिस महाविद्यालय को पौधे के रूप में रोपित किया था, वह अब वटवृक्ष बन चुका है, यहां से पढ़े हुए छात्र छात्रायें देश विदेश में बड़े चिकित्सक बनकर ऋषिकुल का नाम रोशन कर रहे हैं। आयुर्वेद एवं युनानी सेवाओं के निदेशक डा. अरूण कुमार त्रिपाठी ने विश्व में आयुर्वेद की बढ़ती स्वीकार्यता और उसमें ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के विगत 100 वर्ष से दिये जा रहे येागदान की प्रशसा करते हुए कहा कि हमारी पुरानी पीढ़ी ने आयुर्वेद की जिस परंपरा को आगे बढ़ाया है उसे पुष्पित व पल्लवित करना नई पीढ़ी की जिम्मेदारी है। पूर्व स्नातकों से खचाखच भरे हुए मालवीय प्रेक्षागृह में पूर्व स्नातकों को स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर डा.वीके शर्मा, डा.उदय नारायण पांडे, डा.रवि बेदी, डा.रमेश गोयल, डा.अशोक पालीवाल, डा.सीडी काला, डा.मधु शर्मा, डा.सम्पत तिवारी, डा.संजय सिंह, डा.जयदीप सिंह बिष्ट, डा. हरिओम, डा.जगदीश शर्मा, डा.एचके सिंह आदि ने पूर्व स्नातकों व अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका अभिनंदन किया, समारोह का संचालन डा.नरेश चैधरी तथा डा.देवेंद्र चमोली ने किया। ऋषिकुल पे्रक्षागृह में आयोजित शताब्दी समारोह में देश विदेश के प्रसिद्ध चिकित्सकों के साथ साथ उ.प्र., हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल, से बड़ी संख्या में ऋषिकुल आयुर्वेदिक कालेज के पूर्व स्नातक उपस्थित रहे।

48

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *